KEYBOARD full form और कीबोर्ड क्या होता है?

KEYBOARD क्या है, KEYBOARD full form क्या होता है, इस प्रकार के सवाल यदि आप सर्च कर रहें हैं तो आप एक दम सही साइट पर विजिट किए है। आज आप इस पोस्ट में ये सारी चीजे और KEYBOARD की पूर्ण जानकारी जानने वाले है। तो आइए शुरू करते हैं।
 
 
इस पोस्ट में हमने निम्न टॉपिक्स को कवर किया है:
 
1. KEYBOARD का full फॉर्म क्या होता है?
 
2. KEYBOARD क्या है?
 
3. KEYBOARD कितने प्रकार के होते हैं?
 
4. KEYBOARD का क्या use किया जाता है?
 
5. How many keys are ऑन a KEYBOARD?
 
 
KEYBOARD full फॉर्म in कंप्यूटर 
 
K – Key
E – Electronic
Y – Yet
B – Board
O – Operating
A – A to Z
R – Response
D – Directly
 
 
KEYBOARD का full फॉर्म
 

Keyboard क्या है?

यह सबसे प्रमुख इनपुट युक्ति है, जो टाइपराइटर के समान दिखाई देता है। इसमें टाइपराइटर की तरह बहुत से बटन कुंजियां होती है। इन कुंजियों को दबाकर कोई भी पाठ्य; जैसे – शब्द , संख्याएं, चिन्ह आदि टाइप किए जा सकते हैं। इसका प्रयोग कंप्यूटर में डेटा एवम् निर्देश को कंप्यूटर की मैमोरी तक पहुंचने में किया जाता है।
 
 
 

KEYBOARD कितने प्रकार के होते हैं?

आइए जानते है कि KEYBOARD कितने प्रकार के होते है और जो प्रकार है उसका क्या लाभ होता है –
 

1. Wired KEYBOARD: 

इस प्रकार का KEYBOARD जो केबल के द्वारा कम्प्यूटर में सीपीयू से कनेक्ट रहता है। इस KEYBOARD को सीपीयू से जिस केबल का उपयोग किया जाता है उसे यूएसबी केबल कहते है।
 
यह KEYBOARD अन्य KEYBOARD की तुलना में बहुत साधारण और सस्ता है। इस लिए इसका प्रयोग काफी ज्यादा होता है।
 
 

2. वायरलेस KEYBOARD:

ये ऐसे KEYBOARD होते हैं, जिसमें वायर की आवश्यकता नहीं होती है, जिस कम्प्यूटर में इस KEYBOARD का उसे करना होता है, उसमे एक ट्रांसमीटर लगाया जाता है। KEYBOARD और कंप्यूटर को कनेक्ट करता है जो एक प्रकार से रेडियो फ्रीक्वेंसी रिसीवर होता है जो KEYBOARD से दिए गए निर्देशों के सिग्नल को कंप्यूटर में भेजता है।
 

3. Ergonomic KEYBOARD:

इस प्रकार के वे KEYBOARD होते है। जो यूजर को काम करने में सोहलियत देते हैं। इस प्रकार के KEYBOARD में जब यूजर कार्य करता है, तो उसे टाइपिंग करने में बहुत आराम देता है।
 
 इस KEYBOARD से और के मुकाबले स्पीड कार्य होता है। टाइपिंग करने के दौरान हाथो में दर्द जैसे परेशानी कम होती है।
 
 

4. Soft and फ्लेक्सिबल KEYBOARD :

इस प्रकार के KEYBOARD इससे पहले जो मैने जो प्रकार बताया है उससे काफी अधिक आरामदायक होते है। यह एक रबर कि एक पतली शीट से बनाया जाता है यह बोर्ड सॉफ्ट और फ्लेक्सिबल होता है। 
 
यदि यह KEYBOARD गिर जाता है तो ज्यादातर नुकसान होने की संभावना नहीं रहती हैं, क्योंकि यह फेक्सिबल होते हैं।
 
 
 
 

कम्प्यूटर में KEYBOARD का क्या use होता है?

KEYBOARD कंप्यूटर का एक अहम अंग है। यह कंप्यूटर की एक इनपुट डिवाइस है। इसका use कंप्यूटर में कंप्यूटर को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है।
 
 कंप्यूटर का ज्यादा से ज्यादा कार्य कंप्यूटर के द्वारा किया जाता है जैसे ; टाइपिंग करने के लिए और कंप्यूटर को डेटा और निर्देश देना इसका मुख्य कार्य होता है।
 
 
 
 

How many keys are ऑन a KEYBOARD?

KEYBOARD में कुल 104 keys होते है। जिसमें सभी अलग अलग और उनका उपयोग भी अलग होता है।
 
प्रमुख कुंजियों का संक्षिप्त परिचय :
 
(1) वर्णमाला कुंजियां:
इन कुंजियों से अंग्रेजी वर्णमाला  अक्षर टाइप किए जाते है। किसी वर्णमाला कुंजी को दबाने पर छोटा अक्षर टाइप होता है तथा शिफ्ट के साथ दबाने पर बड़ा अक्षर टाइप होते है। इनकी संख्या 26 है।
 
(2) संख्या कुंजियां :
वर्णमाला कुंजियों से ऊपर की पंक्ति में संख्या कुंजियां होती है। इन कुंजियों से 0 से 9 तक के अंक टाइप किए जाते हैं।
 
(3) एस्केप कुंजी :
इस कुंजी का प्रयोग प्रोग्रामो से बाहर निकलने के लिए किया जाता है।
 
(4) फंक्शन कुंजियां : 
F1 से F12 तक कि कुंजियां फंक्शन कुंजियां होती है। इनके द्वारा कंप्यूटर से कुछ विशिष्ट कार्य करवाने के लिए निर्देश दिए जाते हैं। किसी फंक्शन कुंजी को दबाने पर उसमे उपस्थित आदेश चालू हो जाता है। इनका उपयोग विभिन्न प्रोग्रामो के अनुसार अलग अलग होती है।
 
(5) कर्सर कंट्रोल कुंजियां :
इन कुंजियों पर तीर के चिन्ह प्रिंट होते है। इन कुंजियों से कर्सर को मॉनिटर की स्क्रीन पर कहीं भी के जाया जा सकता है। इसके अन्तर्गत चार तीर के चिन्ह वाली कुंजियां आती है जो चार दिशाओं (दाएं, बाएं, नीचे) को दर्शाती है।
 
(6) संख्यात्मक कीपैड :
यह KEYBOARD के दाएं भाग में कुंजियों का एक विशेष समूह होता है, जिससे केवल संख्यात्मक डेटा टाइप किया जाता है।
 
इस कीपैड का स्वरूप एक साधारण इलेट्रोनिक कैलकुलेटर की तरह होता है। हम कम्प्यूटर में को डेटा भरते है उसमे लगभग 90% डेटा संख्यात्मक होता है। इस पर हम केवल एक हाथ से संख्यात्मक डेटा टाइप कर सकते है। इसको क्रियाशील करने के लिए लॉक बटन ऑन होना चाहिए।
 
 
(7) कंट्रोल कुंजी: 
इस कुंजी का उपयोग कुछ विशिष्ट आदेश देने के लिए अन्य कुंजियों के साथ संयुक्त रूप से किया जाता है। उदाहरण के लिए; विंडोज वातावरण में कंट्रोल के साथ c दबाने पर चुनी हुई वस्तु या डेटा क्लिप बोर्ड में कॉपी हो जाता है दूसरे शब्दों में यह कॉपी आदेश का शॉर्टकट है।
 
 
(8)Alt key :
इस कुंजी का उपयोग भी कंट्रोल कुंजी की तरह शॉर्टकट आदेशों में किया जाता है।
 
 
(9) एंटर key : 
इसे रिटर्न कुंजी भी कहा जाता है। यह हमारे द्वारा तैयार किए गए किसी आदेश को कंप्यूटर में भेजने का कार्य करती है।
 
एमएस डोस में एंटर कुंजी दबाने पर कंप्यूटर या आइकॉन को सक्रिय  करने का आदेश दिया जाता है। इसका उपयोग दस्तावेज़ तैयार करते समय नया पैराग्राफ नया शुरू करने के लिए भी किया जाता है।
 
 
(10) शिफ्ट key :
ये संख्या में दो होती है। इनका उपयोग अंग्रेजी वर्णमाला के बड़े अक्षर टाइप करने के लिए किया जाता है। यदि किसी कुंजी पर दो चिन्ह छपे हैं, तो शिफ्ट के साथ दबाने पर ऊपर का चिन्ह टाइप होता है।
 
 
(11) बैकस्पेस कुंजी :
इसका उपयोग टाइपिंग के समय की गई गलतियों को तत्काल ठीक करने के लिए किया जाता है। इसे दबाने पर बाएं ओर का एक टेक्स्ट डिलीट हो जाता है।
 
 
(12) संपादन कुंजियां :
कर्सर कंट्रोल कुंजियों के उपर कुंजियों का एक विशेष समूह होता है, जिनका उपयोग दस्तावेज़ या पाठ्य को तैयार करते समय सम्पादन के लिए किया जाता है। इस समूह में निम्न कुंजियों होती है – इंसर्ट, डिलीट, होम, इंड, पेज up तथा पेज डाउन। इनका प्रभाव विभिन्न प्रोग्रामो में भिन्न भिन्न होता है।
 
 
(13) कैप्स लॉक कुंजी :
यह कुंजी ऑन करने पर केवल कैपिटल अक्षर टाइप होते हैं, अन्यथा छोटे अक्षरों को टाइप होते है। वर्णमाला कुंजियों के अलावा अन्य कुंजियों पर इसका प्रभाव नहीं पड़ता है।
 
 
(14) अन्य कुंजियों :
उपरोक्त कुंजियों के अतिरिक्त KEYBOARD में अन्य कई कुंजियां होती है; जैसे – Pause/Break, Print स्क्रीन, स्क्रॉल लॉक आदि । विशेष उपयोग होता है।
 
 
 

KEYBOARD की विशेषताएं

a) इसके द्वारा डेटा को कंप्यूटर में सही तरीके से भेजा जा सकता है।
 
b) इसमें विभिन्न प्रकार के डेटा को भेजा जा सकता है।
albarch hawkton

Leave a Reply