E-Com का फुल फॉर्म और E-Com के फायदे क्या होते हैं?

यदि आपके पास इंटरनेट कनेक्शन है तो ऐसा तो नहीं है कि आप कभी E-Com या E-Commerce का नाम नहीं जानते होंगे। आज हम इसी के बारे में full इंफॉर्मेशन बताने वाले है की इकॉम क्या है ईकॉम का full फॉर्म क्या होता है कितने प्रकार का होता है etc.
इस पोस्ट में हम जानेंगे:

1. E-Com का full फॉर्म क्या होता है?
2. E-Commerce क्या है? 
3. E-Commerce कितने प्रकार के होते हैं?
4. इ-कॉमर्स  के फायदे 
E-Com का फुल फॉर्म
चलिए शुरुवात से शुरू करते हैं

1. E-Com full फॉर्म क्या होता है? | Ecommerce business or E-Com full form

E-Com: Electric Commerce (इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स)
 

2. E-Commerce क्या है? 

इंटरनेट तकनीक के माध्यम से विभिन्न प्रकार के वस्तुओं की खरीदी और बिक्री ई-कॉमर्स कहलाती है। वैसे तो इंटरनेट पर सामान्य उद्देश्य से विभिन्न सेवाएं उपलब्ध है परन्तु कुछ विशिष्ट सेवाएं भी है जो उपयोगकर्ताओं को संतुष्ट प्रदान करने में सक्षम है। 
E- कॉमर्स के अन्तर्गत बैंकिंग, टिकटिंग, वित्तीय भुगतान तथा क्रय विक्रय संबंधी सेवाएं आती है।इन क्षेत्रों में इंटरनेट द्वारा सेवाएं प्रदान किए जाने से आम जनता को राहत मिली है।
इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स को इकॉमर्स व e com के नाम से भी जाना जाता है। इसमें इंटरनेट व कंप्यूटर नेटवर्क के माध्यम से क्रय विक्रय होने का भी आभास होता है, जबकि इसके माध्यम से विकासीय क्रियाएं , मार्केटिंग , ऑडरिंग, सर्विस और भुक्तान जैसी क्रियाएं भी संभव है।

3. E-Commerce कितने प्रकार के होते हैं? | Type of E-Commerce business

1. Business to business e-commerce (B2B):

Business to business e-commerce को B2B e-commerce भी कहते है। B2B e-commerce एक बिज़नेस को उसके वितरकों ,खुदरा विक्रताओं, सप्लायर्स और प्रतियोगियों से इलेक्ट्रॉनिक रिलेशनशिप स्थापित करने के लिए एप्लिकेशन के विस्तृत क्षेत्र को अच्छदित करता है। 
B2B e-commerce का प्रयोग विविध आइटम्स ; जैसे – इलेक्ट्रॉनिक्स , कम्प्यूटर्स युटिलिटी , शिपिंग और वेयरहाउसिंग, मोटर वाहन , ऑफिस उत्पाद , पेट्रोकेमिकल्स , भोजन , कृषि इत्यादि के लिए किया जा रहा है।
सप्लाई चेन मैनेजमेंट , इलेक्ट्रॉनिक मार्केटिंग , प्रोक्युमेंट मैनेजमेंट, जस्ट-इन- टाइम डिलीवरी , इलेक्ट्रॉनिक डेटा इंटरचेंज यदि ऐसे कुछ प्रचलित B2B एप्लिकेशन है, जहां पार्टनर्स के मध्य संबंध प्रभावित होता है।

2. Business to consumer e-commerce (B2C):

Business to consumer e-commerce को B2C e-commerce भी कहते हैं। B2C E-Commerce में उत्पाद अथवा सेवाओं को कंपनी के माध्यम से सीधे-सीधे उपभोक्ता को बेचा जाता है। B2C E-Commerce का प्रचलन आज अत्यंत तीव्र गति से बढ़ रहा है। 
इसके अन्तर्गत एक व्यवसाय और एक उपभोक्ता के मध्य इलेक्ट्रॉनिक साधनों के माध्यम से लेन देन होता है। चूंकि B2C E-Commerce के व्यवसाय का एक वास्तविक विकास इंटरनेट और इसके ग्राफिक ओरियंटेड ब्रॉडबैंड वेब पर आधारित है , इसलिए यह अभी उतना विकसित नहीं हुआ है।
इंटरनेट के वाणिज्यीकरण एवं लोकप्रियता के कारण B2C E-Commerce को नई गई मिल गई है, परन्तु पिछले कुछ समय से इंटरनेट वीडियो और टेली शॉपिंग जैसी प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके ऑनलाइन व्यवसाय में काफी वृद्धि हुई है।

3.Consumer to business e-commerce ( C2B):

Consumer to business e-commerce को C2B e-commerce भी कहा जाता है। यह किसी भी उपभोक्ता को प्रदान करता करता है, जो इंटरनेट पर किसी व्यवसाय को उत्पाद बेचता है।

4. Business to employ e-commerce (B2E):

Business to employ e-commerce को (B2E) e-commerce भी कहा जाता है। यह एक इंट्राबिजनेस नेटवर्क का प्रयोग करती है, जो कंपनीज़ को उनके कर्मचारियों को उनके उत्पाद और सेवाएं उपलब्ध कराने की अनुमति देती है।
आमतौर पर कंपनियों कर्मचारियों से सम्बन्धित कॉपेरेट प्रक्रियाओं को स्वचालित करने के लिए B2E नेटवर्क का प्रयोग करती है।
B2E एप्लिकेशन में ऑनलाइन इंश्योरेंस पॉलिसी मैनेजमेंट कापेरेट घोषणा प्रसार ऑनलाइन आपूर्ति अनुरोध और विशिष्ट कर्मचारी प्रस्ताव सम्मिलित होते हैं।

5. Consumer to consumer e-commerce (C2C):

Consumer to consumer e-commerce को C2C e-commerce भी कहते हैं। यह e-commerce अभी लोकप्रिय नहीं है इसका सबसे अच्छा उदाहरण ऑनलाइन नीलामी साइट्स हैं। 
यदि कोई कुछ भी बेचना चाहता है तो वह नीलामी साइट पर नोट करा देता है और लोग उसकी बोली लगा सकते हैं । इसमें सबसे लोकप्रिय वेबसाइट www.ebay.com ने इस काल्पनिक नीलामी को ग्राहकों के लिए प्रस्तुत किया है।

4. इ-कॉमर्स  के फायदे | Benefits of E-Commerce

E कॉमर्स के लाभों का अध्ययन उसके तीन पक्षों; संगठनों , उपभोक्ताओं तथा समाज को ध्यान में रखकर किया जा सकता है, जो निम्न प्रकार हैं:

1. संगठनों के लिए:

E-Commerce की सहायता से अब बाजार केवल कोई स्थानीय क्षेत्र नहीं रह गया बल्कि सम्पूर्ण दुनिया के लोगो के लिए बहुत उपयोगी हो गया है । सभी E-commerce व्यवसाय , अन्तर्राष्ट्रीय निगम आभासी हो गए हैं।
 इंटरनेट की लागत , नेटवर्क की तुलना में कम है जो संगठन और उसके अधिकृत भागीदारों के के एक मात्र उपयोग के लिए टेलीफोन लाइनों पर आधारित है। E-commerce के द्वारा ग्राहकों , आपूर्तिकर्ताओं से किसी भी समय संपर्क कर सकते हैं।
सार्वजनिक अनुकूल इंटरनेट तकनीकों का विक्रेताओं और ग्राहकों की अनुमति के साथ अपने ग्राहकों के हितों और प्राथमिकताओं को ट्रैक करके , ग्राहकों की आवशयकताओं को पूरा करने के लिए उत्पादों और सेवाओं को अनुकूलित कर ग्राहकों के साथ सम्बन्ध को बनाने की अनुमति प्रदान करता है।
कागज आधारित सूचना को बनाने , प्रसंस्करण , वितरण की लागत , भंडारण और सूचना को पुनः प्राप्त करने की लागत कम हो गई।

2. उपभोक्ताओं के लिए:

E-Commerce दिन के 24 घंटो में , ग्राहकों को किसी स्थान पर गतिविधि करने में सक्षम बनाता है। E-Commerce के द्वारा ग्राहकों के लिए इंटरनेट पर अनेक प्रकार के उत्पादों व सेवाओं से संबंधित विकल्प उपलब्ध है। जिनमे राष्ट्रीय, अन्तर्राष्ट्रीय या दोनों के उत्पाद उपलब्ध हैं।
E-Commerce, ग्राहकों को मूल्य की तुलना करने में सक्षम बनाता है। ई- वाणिज्य उत्पादों के विषय में सूचना बहुत सरलता से उपलब्ध कराता है।
E-Commerce द्वारा इंटरनेट से अनेक सॉफ्टवेर, फाइल्स और नोट्स को मिनटों में डाउलोड कर सकते हैं और यदि आप इंटरनेट के जरिए किसी उत्पाद का खरीदारी करते है तो उसका लेन देन संबंधी संख्या तुरंत आपकी ईमेल आईडी में अा जाएगी और डाक द्वारा वितरित किया जाएगा।

3. समाज के लिए:

E-commerce कार्य की स्थितियों को सरल बनाता है, यहां तक कि आप घर से कार्य कर, समय का प्रभावी तरीके से नियोजन कर सकते हैं।
विकासशील देशों और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को उत्पादों, सेवाओं सूचनाओं या अन्य लोगो (जिन्हे सरलता से नहीं उपलब्ध होता ) को उपयोग करने में सक्षम बनाता है।
इंटरनेट पर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ (डॉक्टर्स या नर्स के साथ ऑनलाइन परामर्श ) , Inland Revenue वेबसाइट के माध्यम से इंटरनेट पर कर का भुगतान इत्यादि इस सुविधा में सम्मलित है।
albarch hawkton

Leave a Reply