CPU का full form | सीपीयू (CPU) क्या है और इसका कार्य

 CPU क्या है CPU का full form क्या होता है सीपीयू के कितने भाग होते हैं CPU में CU क्या है? CU का full form क्या होता है?

MU क्या है, MU का full form क्या होता है और AU क्या है AU का full form क्या होता है। ऐसे सवालों के जवाब आप खोज रहे हैं तो इन सारे का जवाब आप इस आर्टिकल में जानने वाले हैं।

CPU का full form

इस पोस्ट में हम जानेंगे:

1. सीपीयू (CPU) का full form in कंप्यूटर

2. सीपीयू (CPU) क्या है?

3. सीपीयू (CPU) का कार्य 

4. सीपीयू (CPU) कितने भाग होते हैं?

5. CPU का कौन-सा भाग आकलन करता है?

6. CPU के प्रकार ( Types Of CPU)

आइए शुरुवात से शुरू करते हैं।

1. सीपीयू full form in कंप्यूटर

सीपीयू (CPU): सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit)

सीपीयू का full form सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट होता है। इसे कंप्यूटर के मस्तिष्क के रूप में जाना जाता है। यह कंप्यूटर की प्रोसेसिंग का कार्य होता है।

2. सीपीयू (CPU) क्या है? 

सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) एक वास्तविक कंप्यूटर है। यह कंप्यूटर का मस्तिष्क और हृदय कहलाता है। कंप्यूटर में किए जाने वाले सभी कार्य सीपीयू के द्वारा ही किए जाते हैं। इनपुट आउटपुट के उपकरण तो केवल कंप्यूटर से हमारा संबंध जोड़ने का कार्य करते हैं।

PC या माइक्रो कंप्यूटर के सीपीयू में एक छोटा सा माइक्रोप्रोसेसर लगा होता है। और अन्य बड़े बड़े कम्प्यूटर्स में एक से अधिक माइक्रोप्रोसेसर हो सकते हैं। सीपीयू कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग है।



3. सीपीयू के प्रमुख कार्य निम्न है:


i. निर्देशों तथा डाटा को मुख्य मेमोरी से रजिस्टर्स में स्थांतरित करना।

ii. निर्देशों का क्रमिक रूप से क्रियानवयन करना।

iii. यदि अवश्यकता पड़ने पर आउटपुट डेटा को रजिस्टर्स से मुख्य मेमोरी में स्थानांतरित करना।

 

4. CPU के महत्वपूर्ण भाग जिससे मिलकर बना होता है

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट तीन महत्वूर्ण भागों से मिलकर बना होता है:

(1) ALU 

ALU का full फॉर्म अर्थमैटिक लॉजिकल यूनिट होता है। यह यूनिट सीपीयू के लिए सभी प्रकार के अंकगणतीय क्रियाएं (जोड़, घटाओ, तथा गुणा, भाग) और तुलनाएं (दो संख्याओं में ये बताना की चोटी और बड़ी को) यह कई ऐसे इलेक्ट्रॉनिक परिपथों से मिलकर बनी परिपथों से मिलकर बनी होती है, 

जिनमे एक ओर से कोई दो संख्याएं भेजने पर और दूसरी ओर उनका योग, अंतर, गुनाफल, भगफल या तुलनात्मक गणना प्राप्त हो जाती है। और इसमें सभी क्रियाएं बाइनरी पद्धति में की जाती है। 

प्राप्त होने वाली संख्याओं तथा क्रियाओं के परिणामों को अस्थाई रूप से स्टोर करने के लिए रजिस्टर का प्रयोग किया जाता है।

(2) CU 

CU का full फॉर्म कंट्रोल यूनिट होता है। इस भाग का कार्य बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह कंप्यूटर के सभी भागों के कार्यों पर नजर रखता है और उनमें परस्पर तालमेल बैठाने के लिए उचित आदेश भेजता है। 

इसका सबसे प्रमुख और पहला कार्य यह है की हम जिस प्रोग्राम का पालन करना चाहते हैं, यह उसे मेमोरी में से क्रमशः पढ़कर उसका Analysis करता है और उसका पालन कराता है। किसी आदेश का पालन सुनिश्चित करने के लिए यह कंप्यूटर के दूसरे भागों को उचित निर्देश देता है।

उदाहरण: मेमोरी को आदेश दिया जा सकता है की वह कुछ डेटा को किसी विशेष स्थान पर स्टोर कर दे या वहां से पढ़कर ALU में भेज दे। कंप्यूटर के सभी भागों में तालमेल बनाकर प्रोग्रामो का सही रूप करना , इस यूनिट की जिम्मेदारी है।

(3) MU

MU का full form मेमोरी यूनिट होता है। मोमरी यूनिट कंप्यूटर का वह भाग है, जो डेटा तथा निर्देशों को संगृहीत करता है। कंप्यूटर की मेमोरी आधुनिक कम्प्यूटरों के मूल कार्यों से एक सूचना स्टोरेज की सुविधा प्रदान करती है। 

यह कंप्यूटर के सीपीयू का भाग होता है और इससे मिलकर संपूर्ण कंप्यूटर बनती है। इसके पास दो प्रकार की मेमोरी होती है – प्राइमरी मेमोरी व सेकेंडरी मेमोरी । 

प्राइमरी मेमोरी सीपीयू से सीधे जुड़ी होती है और उसमें स्टोर डेटा को लगातार पढ़ती रहती है और उनका पालन कराती है। सेकेंडरी मेमोरी सीपीयू से बाहर होती है और डेटा स्टोर करने की क्षमता प्राइमरी मेमोरी से अधिक होती है।

5. CPU का कौन-सा भाग आकलन करता है और निर्णय लेता है?

काफी सारे लोगो के मन में ये सवाल भी आया होगा या किसी जगह लिखा हुआ प्रश्न या कभी आपको किसी ने ये सवाल पूछा होगा आप कंफ्यूज हो गए होंगे। आइए इस सवाल का भी जवाब जान लेते हैं

सामान्यतः हम सभी को पता है कि सीपीयू तीन महत्वपूर्ण भाग से मिलकर बना होता है। इसमें पहला Arithmetic and Logic Unit (ALU) होता है basically इसका काम कम्प्यूटर में किए जाने वाले सभी प्रकार के अंकागणितिय क्रियाएं और तुलनाएं करने का काम होता है। 

दूसरा कंट्रोल यूनिट होता है इसका काम कम्प्यूटर के सभी भागों के कार्यों पर नजर रखता है और उनमें परस्पर तालमेल बैठने के लिए उचित आदेश भेजता है। 

इसका सबसे प्रमुख और पहला कार्य यह है की हम जिस प्रोग्राम का पालन करना चाहते है, यह उसे मैमोरी में क्रमशः पढ़कर उसका विश्लेषण (Analysis) करता है और उसका पालन करता है। 

तीसरा भाग मैमोरी यूनिट इसका काम डेटा तथा निर्देशो को संगृहीत करना है। यह कम्प्यूटर में सूचना स्टोर करने की सुविधा प्रदान करती है।

6. CPU के प्रकार ( Types Of CPU)


I. सिंगल कोर सीपीयू (Single Core CPU):

यह एक सिंगल कोर सीपीयू है इस प्रकार के सीपीयू पुराने कम्प्यूटरों में लगा होता है। इसकी स्पीड बहुत धीमी होती है।

II. डुअल कोर सीपीयू (Dual Core CPU):

यह एक डुअल कोर सीपीयू है इस सीपीयू की प्रोसेसिंग स्पीड सिंगल कोर के मुकाबले दुगना होता है।

III. क्वॉड कोर सीपीयू (Quad Core CPU):

यह एक क्वॉड कोर सीपीयू है इस प्रकार की सीपीयू में आप आराम से मल्टीटास्किंग कर सकते हैं। इसकी स्पीड सिंगल कोर सीपीयू के मुकाबले चार गुना अधिक होता है।

IV. हेक्सा कोर सीपीयू (Hexa Core CPU):

यह एक हेक्सा कोर सीपीयू है। इसमें छः कोर होता है और यह सिंगल कोर से छह गुना अधिक स्पीड होती है।

V. ऑक्टा कोर सीपीयू (Octa Core CPU):

यह एक आठ कोर का सीपीयू है। जिसके प्रोसेसिंग स्पीड का कोई जवाब नहीं है।

VI. डेका कोर सीपीयू (Deca Core CPU):

यह सीपीयू दश कोर का सीपीयू होता है इसकी क्लॉक स्पीड बहुत अधिक होती है और इसकी प्रोसेसिंग स्पीड बहुत तेज है।

albarch hawkton

Leave a Reply