Algorithms क्या है अल्गोरिथम के लक्षण और उपयोग

आज हम पोस्ट में अल्गोरिथम के बारे में जानने वाले हैं जिसमे आपको अल्गोरिथम के बारे में बहुत कुछ नया  मिलेगा क्योंकि बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि अल्गोरिथम क्या है? अगर आप भी अल्गोरिथम के बारे में नहीं जानते तो चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं क्योंकि हम आपको पूरी जानकारी देने वाले हैं। 

तो चलिए शुरू करते हैं। 

सबसे पहले हमलोग जानेंगे कि अल्गोरिथम क्या है?

Algorithms क्या है

Algorithm क्या है? ( Algorithm in Hindi )

अल्गोरिथम को प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ( Programming Language ) में प्रोग्राम लिखने से पहले बनाया जाता है।  जिससे एक बेहतर प्रोग्राम बन सके। अल्गोरिथम को किसी भी प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए किया जाता है। अल्गोरिथम किसी भी प्रॉब्लम को Step By Step सॉल्व करता है। 
Ex. 
मान लो की आपको किसी को फ़ोन करना है फ़ोन करना भी एक तरह की समस्या ही है क्योंकि इसमें आपको कुछ करना है। अब फ़ोन करने के लिए आपको बहुत से काम करने होते हैं  जैसे 
पहली स्टेप >> सबसे पहले आप चेक  कि फ़ोन ऑन ( On ) है या नहीं। 
दूसरी स्टेप >> अगर फ़ोन ऑन है तो आपको उस व्यक्ति का फ़ोन नंबर डायल करना होता है जिससे आप बात करना चाहते है। 
तीसरी स्टेप >> फ़ोन नंबर डायल करने के बाद आपको टारगेट व्यक्ति के फ़ोन पर बेल  जाने का इंतजार करना होगा। 
चौथी स्टेप >>  अगर बेल जाती है और वो व्यक्ति आपका फ़ोन उठा लेता है तो आपकी बात हो जाएगी। 
आप इन चार स्टेप को देख के समझ सकते हैं की आपको फ़ोन करने जैसी मामूली सी काम में भी एक Sequence का पालन करना होता है और साथ ही सभी स्टेप्स को फॉलो करना भी होता है। आप इन स्टेप्स के क्रम को बदल नहीं सकते हैं और न ही आप किसी स्टेप को छोड़ सकते हैं। 
यदि हम इनमे से किसी भी स्टेप्स को ignore करते है तो आप जिससे बात करना चाहते हो आप उससे बात नहीं कर पाओगे यानि कि प्रॉब्लम का सोलुशन नहीं मिलेगा। 
इसलिए आपको किसी प्रॉब्लम को समझने के लिए अलग अलग समूह में बांटना होता है जो कि एक निश्चित क्रम होते हैं। 
 इस फॉलो किये जाने वाले स्टेप्स के समूहों को ही अल्गोरिथम कहा जाता है। 
तो अब हम जानेंगे अल्गोरिथम के लक्षण के बारे में क्योंकि अल्गोरिथम में इसकी कई सारी आवश्यक विशेषताएं होती हैं जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। 

अल्गोरिथम ( Algorithm ) के लक्षण 

1. Finiteness: 

एक अल्गोरिथम जितने कम समय में  अपना पूरा काम करता है वो उतनी ही अच्छी होती है, उसमे हमेशा गिनती के स्टेप्स होते हैं। 

2. Precisely Defined: 

अल्गोरिथम का हर स्टेप क्लेअरली डिफाइन ( Clearly Define ) होता है जिसे आसानी से पढ़ा जा सके।  

3. Input:  

एक अच्छी अल्गोरिथम हमेशा एक अच्छा इनपुट लेता है। 

4. Output:  

अल्गोरिथम हमेशा इनपुट की तरह एक अच्छा आउटपुट भी लेती हैं। 

5. Effectiveness: 

अल्गोरिथम हमेशा प्रॉब्लम सॉल्विंग ( Problem Solving )  चाहिए। 

6. Unambiguous:  

अल्गोरिथम का सही और स्पष्ट होना बहुत जरुरी है जिसमे स्टेप्स और लाइन का  कुछ अर्थ निकले। 
आप जानते हैं कि अल्गोरिथम का उपयोग कहा पर होता है जैसा कि आप सभी इतना तो जानते ही होंगे कि अल्गोरिथम का ब्लॉग आजकल हर जगह है और किसी भी परेशानी का हल इसके जरिये step by step निकला जा सकता है। 
और अगर देखा जाये तो हमारे अनुसार इसका उपयोग ज्यादातर कम्पनीज, इंडस्ट्री और प्रोग्रामिंग आदि में किया जाता है। 
तो चलिए हम आपको इसके यूसेज ( Usage ) के बारे में बताते हैं। 

अल्गोरिथम के उपयोग 

1. मैथमेटिकल के प्रॉब्लम को सॉल्व करने के लिए एक अच्छी और सही अल्गोरिथम का प्रयोग किया जाता है जैसे की 1 नंबर 0 से बड़ा है  तो (+ )और अगर 0 से छोटा है तो (-) है। 
2. Facebook, Google, Youtube, आदि सभी अल्गोरिथम के अनुसार ही अपना सारा काम करता है। 
3. कम्प्यूटर साइंटिस्ट ( Computer Scientist ) और सॉफ्टवेयर इंजिनियर ( Software Engineer ) भी इसका इस्तेमाल करते हैं क्योंकि इसके उपयोग से उन्हें  की बचत होती है और कम मेहनत में पूरा काम हो जाता है। 
4. गलतियां न हो इसके लिए फ्लो चार्ट ( Flowchart ) बनाने के लिए एक सही अल्गोरिथम का प्रयोग किया जाता है। 
5. कई सारी फील्ड ( Field )  जैसे कि स्पेस रिसर्च ( Space Research ) , रोबोटिक्स ( Robotics ), आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ( Artificial Intelligence ) में भी इसका उपयोग मुख्य रूप से किया जाता है। 
6. प्रोग्राम लिखने से पहले कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में अल्गोरिथम का उपयोग किया जाता है। अगर आप कम्प्यूटर साइंस ( Computer Science ) के स्टूडेंट हैं और आपको प्रोग्राम लिखना है जैसे : “Check the Number is not a Prime” ऐसे प्रोग्राम को आप बिना सोचे समझे अगर लिखना शुरू कर देते हैं तो कई गलती आपको इस प्रोग्राम में देखने को मिल सकती है। 
7. सुडो कोड ( Pseudo Code ) लिखने के लिए अल्गोरिथम की बहुत आवश्यकता होती है। नहीं तो सुडो कोड फिर से लिखना पड़ सकता है। 


तो अब हम जानेंगे कि अल्गोरिथम के क्या फायदे हैं?

अल्गोरिथम के फायदे ( Benefit of Algorithm )


1. अल्गोरिथम से किसी भी प्रॉब्लम को सॉल्व करने में आसानी होती है 

2. एक अल्गोरिथम एक निश्चित प्रक्रिया का यूज़ करता है। 

3. ये किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पर निर्भर नहीं है प्रोग्रामिंग नॉलेज के बिना भी किसी के लिए अल्गोरिथम को समझना आसान होता है। 

4. अल्गोरिथम में प्रत्येक चरण में अपना लॉजिकल सीक्वेंस ( Logical Sequence ) होता है इसलिए इसे डिबग ( Debug ) करना आसान होता है। 

5. अल्गोरिथम को फ्लोचार्ट ( Flow Chart ) में कन्वर्ट कर सकते हैं और उसके बाद इसे किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बदला जा सकता है। 


अल्गोरिथम वास्तव में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ( Artificial Intelligence ) जैसी संभव शक्तिशाली टेक्नोलॉजी का दिल है। अल्गोरिथम पहले से ही मशीन लर्निंग ( Machine Learnig ) तकनीक का आधार है इस प्रकार हर दिन नई-नई टेक्नोलॉजी के फीचर्स के साथ हम अल्गोरिथम का यूज़ बढ़ाते जा रहे हैं। आज अल्गोरिथम वर्चुअल असिस्टेंस (Virtual Assistance) या ऑटोनोमस वेहिकल्स ( Autonomous Vehicles) टेक्नोलॉजी में भी यूज़ किया जाता है। 
albarch hawkton

Leave a Reply