MCB Full form, MCB क्या है और कैसे काम करती है?

MCB का पूरा नाम Miniature Circuit Breakers होता है।

MCB ka full form Hindi me मिनिएचर सर्किट ब्रेकर्स।

आपने fuses के बारे में जरूर सुना होगा और fuses का इस्तेमाल हम ओवरलोड और faulty condition में अपने उपकरण को बचाने के लिए करते हैं। पर आज के समय में fuses के स्थान पर हम MCB का इस्तेमाल करने लग गए हैं क्योंकि यह फ्यूज से ज्यादा अच्छे तरीके से काम करती है। चाहे फिर ओवरलोड की स्थिति हो या फिर हमारे उपकरण में कोई दिक्कत आ जाए, MCB  फ्यूज के मुकाबले बहुत ज्यादा अच्छे से काम करती है।


MCB full form in hindi


    What is MCB in Hindi? MCB क्या है?

    MCB एक Electrical switch (इलेक्ट्रिकल स्विच) है जो कि फ्यूज की तरह ही काम करता है। जब भी किसी सर्किट में करंट बहुत ज्यादा हो जाती है तब MCB अपने आप बंद हो जाती है। और आज लगभग हर जगह  fuses बजाए MCB का इस्तेमाल किया जाता है।

    MCB ओवरलोड के कारण बंद होने पर थोड़ी देर बाद हम इसे दोबारा है शुरू कर सकते हैं, लेकिन फ्यूज को हमें बदलना पड़ता है जिसमें समय लगता है इसी कारण फ्यूज की जगह MCB को बढ़ावा दिया जाता है।

    तो इस पोस्ट में आज हम आपको MCB connection in hindi, MCB working in hindi के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं। तो बने रहिये हमारे साथ


    MCB की बनावट

    अगर आपने कभी MCB को खोलकर देखा है तो आपको इसके अंदर के बारे में तो पता ही होगा कि इसके अंदर कितने कॉन्पोनेंट लगे होते हैं लेकिन शायद उन सभी के नाम और उनके कार्य के बारे में आपको नहीं पता होगा तो नीचे हमने आपको इसके अंदर इस्तेमाल होने वाले सभी कॉन्पोनेंट के नाम और उनके कार्य के बारे में बताया है।

    एक MCB को बनाने के लिए उसके अंदर कई चीजें लगाई जाती हैं और सभी का काम अलग अलग होता है जिसके बारे में हम आपको इसके कार्य करने में बताएंगे। नीचे आपको इन सभी कॉन्पोनेंट की सूची दी गई है।

    Supply Terminal

    Arc Chamber

    Body                                

    Magnetic Element    

    Operating Knob                

    Operating Mechanism

    Fixed Contact

    Bi-Metallic Strip

    Load Terminal

    Plunger

    Tripping Lever

    इन सभी के मिलाने पर एक पूरी MCB काम करती है तो नीचे आपको इसके कार्य करने का तरीका बताया गया है।


    MCB working in hindi

    ऊपर हमने बताया कि MCB के अंदर क्या-क्या होता है। MCB के अंदर दो तरह से Tripping होती है। MCB ओवरलोड करंट के कारण और शार्ट सर्किट के कारण। लेकिन इन दोनों ट्रिपिंग के लिए MCB में दो अलग-अलग चीजें लगाई गई है। तो पहले हम बात करते हैं ओवरलोड होने पर MCB कैसे ट्रिप होगी।

    # Over load Current Tripping

    MCB में  एक Bimetal Strip होती है जो दो धातुओं को मिलाकर बनाई जाती है जिसमें से एक धातु गर्म होने पर दूसरे के मुकाबले कम फैलती है। इसी कारण जब MCB पर करंट बढ़ता है, तब यह Bimetal Strip गर्म होने लगती है और जिसके कारण इसमें लगी एक धातु कम फैलती है और दूसरी धातु ज्यादा फैलती है इसके कारण यह स्ट्रीप मुड़ ( Bend) जाती है और मुड़ने के साथ-साथ Tripping Lever को अपने साथ खींचती है जिसके कारण MCB ट्रिप हो जाती है।

    # Short Circuit Tripping

    MCB किसी भी उपकरण में फॉल्ट आने पर भी टाइप हो जाती है अगर वह उपकरण अंदर से Short हो जाता है तब भी MCB ट्रिप हो जाती है। इसका कारण है इसके अंदर लगी Solenoid Coil। जब शार्ट सर्किट होता है तब MCB में लगी Solenoid Coil में बहुत ज्यादा मात्रा में magnetic field (मैग्नेटिक फील्ड) बनती है और यह इसके अंदर लगे Plunger को आगे की तरफ धकेलती है जिससे Tripping Lever भी इस धक्के से आगे चला जाता है और हमारी MCB ट्रिप हो जाती है।

    अब आपको पता लग गया है कि MCB overload और शार्ट सर्किट किसमें कैसे काम करती है। MCB को इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा शार्ट सर्किट के समय होता है। यह बहुत जल्दी कुछ ही मिली सेकंड में ट्रिप हो जाती है जिसके वजह से हमारा नुकसान होने से बच सकता है।


    Types of Miniature Circuit Breakers In Hindi (MCB के प्रकार)

    जैसा कि हम सब जानते हैं MCB का इस्तेमाल घरेलू और औद्योगिक स्तर पर किया जाता है इसलिए इसे अलग-अलग प्रकार का बनाया जाता है। यह मुख्यतः पांच प्रकार की होत है।  जिनको आगे explain किया गया है। इन सभी को अच्छे से जानने के लिए हम एक उदाहरण का इस्तेमाल करेंगे जिसके लिए हम MCB का Full Load करंट या Rated current 10 Amp. मानेंगे।

    Type – B

    अगर किसी MCB का फुल लोड current 10 एंपियर है और वह Type-B MCB  है तो अगर उसके अंदर से 30 से 50 एंपियर करंट Flow हो जाता है, तो वह MCB ट्रिप हो जाएगी।

    Type – C

    इसी प्रकार अगर TYPE- C का MCB है और उसका फुल लोड करंट 10 एंपियर है, तो वह 50 से 100 एंपियर current Flow होने पर Trip हो जाएगा।

    Type – D

    इसी प्रकार अगर TYPE- D का MCB है और उसका फुल लोड current 10 एंपियर है, तो वह 100 से 200 एंपियर current Flow होने पर Trip हो जाएगा।

    Type – K

    ऐसे ही अगर TYPE- K का MCB है और उसका फुल लोड current 10 एंपियर है, तो वह 100 से 150 एंपियर current Flow होने पर Trip हो जाएगा।

    Type – Z

    इसी प्रकार अगर TYPE- Z का MCB है और उसका फुल लोड current 10 एंपियर है तो वह 20 से 30 एंपियर current Flow होने पर Trip हो जाएगा।


    MCB लगाने के फायदे ( Benefit of MCB )

    # MCB एक automatic switch off (ऑटोमेटिकली स्विच ऑफ ) होने वाला सर्किट है जो कि सर्किट में ओवरलोड current और शार्ट सर्किट के कारण खुद ही switch off ( स्विच ऑफ ) हो जाता है और यह फ्यूज के मुकाबले ज्यादा तेजी से काम करता है।

    # MCB को हम ट्रिप होने के बाद दोबारा चला सकते हैं लेकिन फ्यूज के एक बार जलने के बाद में उसकी जगह नया फ्यूज लगाना पड़ता है।

    # अगर हमारी MCB बार-बार ट्रिप होती है तो उसे हम फिर से इस्तेमाल कर सकते हैं पर अगर उसकी जगह फ्यूज का इस्तेमाल किया जाए तो उसे बार-बार बदलना पड़ेगा जिसके लिए काफी समय लगता है और बार-बार पैसे लगते हैं।

    # MCB का इस्तेमाल करना फ्यूज के मुकाबले बहुत ज्यादा सुरक्षित होता है।


    हमने इस पोस्ट में आपको  what is MCB in hindi, MCB ka full form hindi me,  MCB working in hindi MCB के बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव है तो नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

    Post a Comment

    0 Comments