ISI Mark Full form , ISI Mark क्या है और ये क्यों जरूरी है?

 

आज हम आपको बताने वाले हैं कि ISI Mark क्या है?  आप लोग जब भी बाजार जाते होंगे घर का सामान खरीदने के लिए तो आपने काफी बार ISI मार्क  के बारे में सुना होगा जब भी कोई की चीज खरीदी जाती है तो दुकानदार आपसे यही बोलता है कि आप ये वाला ले लीजिए क्योंकि इसमें ISI Mark लगा हुआ है।

तो आप यही सोचेंगे कि इस मार्क वाला सामान बाकी और सम्मान से काफी अच्छा होगा। पर क्या आप लोग जानते हैं कि यह क्या होता है अगर नहीं तो चलिए आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि ISI Mark क्या होता है?


सबसे पहले जान लेते हैं कि ISI मार्क का फुल फॉर्म क्या होता है?


ISI Mark Full form


ISI full form

ISI: Indian Standards Institution  (भारतीय मानक संस्थान )


इसे भी पढ़े 👇👇


ISI Mark क्या है?

ISI मार्क एक तरह का सर्टिफिकेट होता है जो प्रोडक्ट के लिए कंपनी को दिया जाता है। भारत में ऐसी कई सरकारी मानक संस्थान है जो इन समानों को सही तरीके से टेस्ट करते हैं उसके बाद ही उनको सर्टिफिकेट दिया जाता है।

अगर आप इस तरह की कोई भी प्रोडक्ट बना रहे हैं और आप दिखाना चाहते हैं कि आपका प्रोडक्ट 100% safe है तो इसे साबित करने के लिए आपको भारत मानक संस्थान (Indian Standsrd Institution) में आवेदन करना होगा इसके बाद वहां आपको अपना Product को सबमिट करना होगा|

भारतीय मानक संस्थान (ISI) में आपका प्रोडक्ट हर तरह के Standard से होकर गुजरती है मतलब आपके product को काफी बारीकी से जांचा जाता है और आप का प्रोडक्ट भारतीय मानक संस्थान के द्वारा पास हो जाता है और आपके प्रोडक्ट के लिए ISI Mark दे दिया जाता है।

इसी type से कुछ कंपनियां करती हैं वह जब भी कोई product बनाती है तो अपने प्रोडक्ट के क्वालिटी टेस्ट के लिए भारतीय मानक संस्थान (ISI) में बेच देती हैं और इसके बाद उस प्रोडक्ट की गहराई के जांच होने के बाद कंपनी को इस प्रोडक्ट के लिए ISI MARK का सर्टिफिकेट दे दिया जाता है।


ISI MARK (आईएसआई मार्क ) क्यों जरूरी है?

जिस भी प्रोडक्ट में ISI मार्क होता है तो उसे देख के आप कह सकते हैं कि यह समान Safe और क्वालिटी प्रोडक्ट है क्योंकि इसकी जांच स्वयं भारतीय मानक संस्थान यानी ISI करती है। प्रोडक्ट की quality के जांच के लिए उसको के तरह के कि स्टैण्डर्ड से गुजारा है जहां से अगर प्रोडक्ट पास हो जाता है तो उसे ISI सर्टिफिकेट दे दिया जाता है और वह कंपनी अपने प्रोडक्ट में ISI का मार्क Use कर सकता है।


ISI MARK किसको दिया जाता है?

आईएसआई मार्क एक उत्पाद को दिया जाता है, जिसे BIS की अनुमोदित प्रयोगशाला द्वारा अच्छी तरह से जांचा जाता है। इस प्रक्रिया में आवेदक को भरे हुए आवेदन पत्र को जरूरी डॉक्यूमेंट के साथ जमा करना होता है और मांग की जाती है कि शाखा कार्यालय जिसके निर्माण इकाई स्थित है, के शुल्क की मांग की जाए।

उन सामानों की सूची जिन्हें ISI सर्टिफिकेट की आवश्यकता है:

# सीमेंट

# स्टील के उत्पाद

# विद्युत ट्रांसफार्मर

# खाद्य उत्पाद

# सिलेंडर, वाल्व, और नियामक

# बैटरियों

# संधारित्र

# विद्युत मोटर

# स्टेनलेस स्टील प्लेट

# क्लिनिकल थर्मामीटर

# पैकेज्ड ड्रिंकिंग वॉटर

# स्टोव

# स्टील के तार और स्टील की चादरें

# रसोई उपकरणों


ISI मार्क के लाभ क्या-क्या हैं?


ISI मार्क के कई फायदे हैं। जिनको नीचे बताया गया है:

# यह ग्राहक की संतुष्टि को बढ़ाने में मदद करता है की यह समान अच्छी क्वालिटी का है।

# जहां ग्राहक प्रोडक्ट की गुणवत्ता से असंतुष्ट है, तो उत्पाद बेचने वाली कंपनी एक नए प्रोडक्ट के साथ लेनदेन करेगी।

# ग्राहक के लिए, प्रोडक्ट की सर्वोत्तम गुणवत्ता प्राप्त करने के लिए यह मार्क संभव बनाता है।

# यदि किसी ग्राहक को पता चलता है कि ISI मार्क वाला प्रोडक्ट खराब क्वालिटी का है, तो ग्राहक प्रोडक्ट के बनाने वाली कंपनी के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है।

# यह प्रोडक्ट के निर्माताओं और मालिकों को अपने व्यवसाय को बढ़ाने में मदद करता है।


उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे इस पोस्ट के माध्यम से समझ आ गया होगा कि ISI मार्क क्या होता है और यह सामान के लिए क्यों जरूरी होता है?

Post a Comment

0 Comments