पावरप्वाइंट क्या है? इसकी फीचर्स और इसका प्रयोग

 पावरप्वाइंट जैसा कि हम सभी जानते है कि यह एक बहुत ही उपयोगी कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर है पर काफी सारे लोगो को इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है, की पावरप्वाइंट क्या है पावरप्वाइंट का क्या उपयोग किया जाता है? इसका क्या क्या फीचर्स होते हैं और पावरप्वाइंट का उपयोग करना तो आज के इस पोस्ट में हम इसी के बारे के बात करने वाले है तो चलिए सबसे पहले पावरप्वाइंट क्या है? जानते है


पावरप्वाइंट क्या है (What is PowerPoint?)

पावरप्वाइंट, एमएस - ऑफिस पैकेज के अन्तर्गत एक प्रेजेंटेशन सॉफ्टवेयर है जिसे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने विकसित किया था। पावरप्वाइंट प्रोग्राम, विभिन्न प्रकार की प्रेजेंटेशन को सरलता और शीघ्रता से तैयार करने, उन्हें मोडीफाई करने, छांटने तथा प्रेजेंटेशन सहायता करता है।

पावरप्वाइंट ने प्रेजेंटेशन ग्राफिक्स में कार्य करने के नए स्टैंडर्ड स्थापित किए हैं। पावरप्वाइंट में उन्हीं तकनीकों का प्रयोग किया जाता है, जिन्हें हम एमएस ऑफिस के अन्य प्रोग्रामों; जैसे - एमएस वर्ड तथा spreadsheet, में इस्तेमाल करते हैं। इसके साथ ही पावरप्वाइंट स्लाइड में अन्य प्रोग्रामों द्वारा तैयार की गई सूचनाओं या डेटा; जैसे - टेक्स्ट , चार्ट, worksheet, ग्राफिक्स आदि को भी शामिल किया जाता है। पावरप्वाइंट में आप .jpg .giv और .wav जैसी फाइल जोड़ सकते हैं।

माइक्रोसॉफ्ट पावरप्वाइंट में टेक्स्ट, ग्राफिक्स, मूवीज़ और अन्य ऑब्जेक्ट्स, अलग अलग पेजीज़ या स्लाइड में रखे जाते हैं। इन स्लाइड को प्रिंट किया का सकता है, डिस्प्ले किया का सकता है और प्रेजेंट करने वाले की कमांड पर, उनमें नविगेट या संचालन (Handle) भी किया जा सकता है। स्लाइड के मध्य ट्रांजिशन (Transition) को कई तरीकों से एनिमेट (Animate) किया जा सकता है। एक प्रेजेंटेशन के ओवरऑल स्ट्रक्टर को एक आउटलाइनर का प्रयोग करके एडिट किया जा सकता है। प्रेजेंटेशन को कई प्रकार के फाइल फॉर्मेट्स में सेव (Save) और run किया जा सकता है।

अभी आप समझ ही गए होंगे कि पावरप्वाइंट क्या है और इसका उपयोग किस लिए किया जाता है चलिए अब इसके कुछ विशेष फीचर्स के बारे में जानते हैं



पावरप्वाइंट की विशेषताएं (Features of PowerPoint)

पावरप्वाइंट की विशेषताएं कुछ इस तरह है
  1. पावरप्वाइंट 2010 संस्करण में सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसमें यूजर, प्रेजेंटेशन के अन्तर्गत प्रयोग की जानेवाली वीडियो और पिक्चर्स की एडिटिंग भी बड़ी सरलता से कर सकता है।
  2. पावरप्वाइंट के इस संस्करण में बनाई गई किसी भी प्रेजेंटेशन को यूजर सरलता से अपने साथियों के साथ शेयर कर सकते हैं और उसे किसी दूसरे सिस्टम पर भी प्ले कर सकते हैं। इसके प्रेजेंटेशन में प्रयोग की गई अतिरिक्त फाइलों की आवश्यकता भी नहीं होती है।
  3. पावरप्वाइंट 2010 में बनाई गई किसी भी प्रेजेंटेशन में ट्रांजिशन और एनिमेशन को अत्यंत सरलता से जोड़ा जा सकता है और इन सभी प्रभाव के साथ रन भी किया जा सकता है।
  4. पावरप्वाइंट 2010 में यूजर प्रेजेंटेशन के अन्तर्गत smart art ग्राफिक्स को भी जोड़ सकते हैं। यदि कोई smart art फोटो पर आधारित होती है, तो उसे भी जोड़ा जा सकता है।
  5. पावरप्वाइंट 2010 में यूजर प्रेजेटेंशन को अनेक तरीकों से ब्रॉडकास्ट (Broadcast) भी किया जा सकता है।
  6. पावरप्वाइंट में आप प्रेजेंटेशन की फाइलों को नए बैकस्टेज व्यू के द्वारा मैनेज कर सकते हैं। इससे यूजर फाइलों की प्रॉपर्टी, एक्सेस परमिशन, उनकी ओपनिंग, सेविंग प्रिंटिंग और शेयरिंग को तीव्रता से अक्जिक्यूट कर सकती है।
  7. पावरप्वाइंट में यूज़र की एक प्रेजेंटेशन के लिए मल्टीपल यूज़र सेट कर सकते है, जिसके कारण उसे एक से अधिक यूज़र प्रयोग कर सकते हैं, जिसके कारण उसे एक से अधिक व्यक्ति प्रयोग कर सकते हैं। इस सुविधा को को - ऑथरिंग (Co- authoring) भी कहा जाता है।
  8. माइक्रोसॉफ्ट शेयरप्वाइंट सर्वर का प्रयोग करके लोकेशन को लेकर शेयर कर सकते हैं, जिसके कारण यूजर अपनी सुविधा से कंटेंट को को - ऑथर कर सकते हैं।
  9. पावरप्वाइंट की ऑटो रिकवर और सेव सुविधा को प्रयोग करके उन प्रेजेंटेशन को भी पुनः प्रयोग कर सकते हैं, जो पावर जाने के कारण या वायरस से खराब हो चुकी हैं। इन दोनों सुविधाओं की सेटिंग को भी अपनी  आवश्यकतानुसार परिवर्तित किया जा सकता है।
  10. पावरप्वाइंट में बनी प्रेजेंटेशन को भी पुनः प्रयोग कर सकते हैं, जो पावर जाने के कारण या वायरस से खराब हो चुकी है। इन दोनों सुविधाओं की सेटिंग को भी अपनी आवश्यकतानुसार परिवर्तित किया जा सकता है।
  11. पावरप्वाइंट में बनी प्रेजेंटेशन के अन्तर्गत प्रयोग की गई स्लाइडों को लॉजिकल ग्रुप में भी संगठित किया जा सकता है।
  12. अपनी प्रेजेंटेशन की तुलना किसी अन्य प्रेजेंटेशन से भी की का सकती है। इसके स्थान पर उसे किसी अन्य प्रेजेंटेशन के साथ मर्ज भी किया जा सकता है। इसके लिए पावरप्वाइंट में मर्ज एंड compare (Merge and Compare) नामक फीचर्स होता है।
  13. मर्ज एंड Compare नामक सुविधा उस समय बहुत ही उपयोगी होती है, जब यूजर ई मेल या नेटवर्किंग के माध्यम से प्रेजेंटेशन पर अन्य लोगों के साथ कार्य करता है।

अब चलिए पावरप्वाइंट के कुछ बेसिक्स चीजों के बारे में जानते है



पावरप्वाइंट के बेसिक्स (Besics of PowerPoint)

पावरप्वाइंट सबसे अधिक प्रचलित प्रेजेंटेशन ग्राफिक्स सॉफ्टवेयर पैकेज है जो अमेरिका के माइक्रोसॉफ्ट कार्पोरेशन द्वारा डिजाइन किया गया था। वर्ष 1987 में इसके आने के बाद, पावरप्वाइंट ने प्रेजेंटेशन ग्राफिक्स में कार्य करने के नए स्टैंडर्ड सेट किए हैं। पावरप्वाइंट आपको अपने विचार एवम् सूचनाएं, जो आप दर्शकों तक पहुंचना चाहते हैं, बड़ी सरलता से उन तक पहुंचाने में आपकी सहायता करता है; बड़ी सरलता से उन तक पहुंचाने में आपकी सहायता करता है; जैसे -

  • पावरप्वाइंट से ओवर हैड प्रोजेक्टर (OHP), स्लाइड या स्क्रीन के ऊपर प्रेजेंटेशन प्रस्तुत कर सकते हैं।
  • पावरप्वाइंट से स्पीकर नोट्स में अपने प्रेजेंटेशन को अतिरिक्त महत्व दे सकते हैं।
  • पावरप्वाइंट में माइक्रोसॉफ्ट वर्ड या माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल जैसे अन्य एप्लिकेशन पैकेजेस किए गए कंटेंट का प्रयोग कर सकते हैं।

अब चलिए जानते हैं इसमें क्या क्या ऑब्जेक्ट का प्रयोग किया जाता है



पावरप्वाइंट का प्रयोग करना (Using of Powerpoint)

प्रेजेंटेशन फाइल (Presentation File)

किसी विशेष विषय पर प्रेजेंटेशन की सभी स्लाइडों को एक फाइल में रखा जाता है, जिसे प्रेजेंटेशन फाइल कहते हैं। पावरप्वाइंट की इन फाइलों के नाम का एक्सटेंशन भाग समन्यतः .pptx होता है; जैसे - PROJ 1.pptx । प्रत्येक प्रेजेंटेशन की सभी सूचनाएं, वक्ता के नोट्स तथा ध्वनि आदि के प्रभाव, आदि यूज़र ने सम्मलीत किए हैं, सभी एक ही फाइल में रखे जाते है, ताकि उन्हें कॉपी करना और प्रयोग करना सरल हो।

स्लाइड (Slide)

प्रेजेंटेशन के प्रत्येक पेज को स्लाइड कहा जाता है इसमें टेक्स्ट, ग्राफिक्स, clipart आदि हो सकते हैं। यूजर स्लाइड को ओवर हैड प्रोजेक्टर की ट्रांसपरेंसी (Transparencies) के लिए भी प्रिंट कर सकते हैं।

वक्ता के नोट (Speaker's Note)

ये ऐसी सूचनाएं होती हैं जो वक्ता को प्रेजेंटेशन बनाते समय कुछ सूचना याद दिलाने के लिए दी जाती है। ये सामान्यतः पेज पर छपे साधारण वाक्य या सूचनाएं होती है। प्रेजेंटेशन के समय ये सूचना स्लाइडों पर दिखाई नहीं देती है।

मास्टर स्लाइड (Master Slide)

यह ऐसी स्लाइड होती है, जिसमें ऐसी सूचनाएं (Information) या सामग्री होती है, जो प्रेजेंटेशन की प्रत्येक स्लाइड में सम्मिलित की जाती हैं। उदाहरण, कंपनी का नाम, लोगो, प्रेजेंटेशन की तिथि आदि प्रत्येक स्लाइड पर दिखाई दें। यह कार्य मास्टर स्लाइड द्वारा ही किया जाता है।

हैंडआउट (Handouts)

ये ऐसे पेज होते हैं जिन पर प्रेजेंटेशन की सभी या चुनी हुई स्लाइडों को प्रिंट किया जाता है। इसके द्वारा यूजर 1,2,3,4 या 6 स्लाइडों को प्रिंट कर सकता है।

Post a Comment

0 Comments