प्रिंटर क्या है और यह कितने प्रकार का होता है? (What is Printer and types of Printer)

 प्रिंटर क्या है? प्रिंटर कितने प्रकार का होता है? प्रिंटर  का क्या क्या उपयोग किया जाता है और प्रिंटर के क्या क्या फीचर्स होते है? आज के इस पोस्ट में आप प्रिंटर से जुड़े ऐसे ही सवलो के जवाब आप पढ़ने वाले है। आइए बिना समय गंवाए सबसे पहले ये जानते हैं कि प्रिंटर क्या है और यह किस प्रकार का युक्ति है।

प्रिंटर क्या है? | What is Printer?

प्रिंटर एक प्रकार की आउटपुट युक्ति है, जिसका प्रयोग कंप्यूटर से प्राप्त और सूचना को कागज पर प्रिंट करने के लिए किया जाता है। यह ब्लैक और वाइट (Black and White) के साथ - साथ कलर डॉक्यूमेंट को भी प्रिंट कर सकता है। किसी भी प्रिंटर की क्वालिटी उसकी प्रिंटिंग की क्वालिटी पर निर्भर करती है अर्थात् जितनी अच्छी प्रिंटिंग क्वालिटी होगी उतनी ही अच्छा माना जाएगा।


किसी प्रिंटर की गति करेक्टर प्रति सेकेंड (Character Per Second - CPS), लाइन प्रति मिनट (Line Per Minute - LPM) और पेजिज़ प्रति मिनट (Pages Per Minute - PPM) में मापी जाती है। किसी प्रिंटर की क्वालिटी डॉट्स प्रति इंच (Dots Per Inch - DPI) में मापी जाती है अर्थात पेपर पर एक इंच में जितने ज्यादा से ज्यादा बिंदु होंगे, प्रिंटिंग उतनी ही अच्छी होगी।

अब चलिए इसके Featurs के बारे में थोड़ा सा जान लेते हैं

प्रिंटर के फीचर्स (Featurs of Printer)

एप्पल आईपैड (Apple iPad), आईफोन (iPhone), आईपॉड टच (iPod Touch) के द्वारा बहुत जल्दी प्राप्त किए जा सकते हैं।
वायरलैस (Wireless) प्रिंटर के द्वारा तारों के कनेक्शन के बिना प्रिंट आसानी से और कहीं से भी प्राप्त किए जा सकते हैं।

अब आइए जानते हैं कि प्रिंटर कितने प्रकार का होता है

प्रिंटर कितने प्रकार का होता है? (Types of Printer?)

प्रिंटर को सामान्यतः दो भागों में बांट गया है


1. इंपैक्ट प्रिंटर (Impact Printer)
2. नॉन इंपैक्ट प्रिंटर (Non Impact Printer)


आइए इन दोनों के बारे में जानते है

1. इंपैक्ट प्रिंटर (Impact Printer)

यह प्रिंटर टाइपराइटर की तरह कार्य करता है। इसमें अक्षर छपने के लिए छोटे छोटे पिन या हैमर्स होते है। इन पिनो पर अक्षर बने होते है। ये पिन स्याही से लगे रिबन (Ribbon) के बाद पेपर पर प्रहार करते है, जिससे अक्षर पेपर पर छप जाते हैं। इंपैक्ट प्रिंटर एक बार में एक कैरेक्टर या एक लाइन प्रिंट कर सकता है।


इस प्रकार के प्रिंटर ज्यादा अच्छी क्वालिटी की प्रिंटिंग नहीं कर सकता है। ये प्रिंटर दूसरे की तुलना में सस्ते हैं और प्रिंटिंग के दौरान अधिक आवाज करते हैं इसलिए इनका प्रयोग थोड़ा कम होता है।
इंपैक्ट प्रिंटर भी निम्न प्रकार के होते हैं


1. डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर (Dot Matrix Printer)


इस प्रकार के प्रिंटर में पिनों की एक पंक्ति होती है, जो कागज के ऊपरी सिरे पर रिब्बन से प्रहार करती है। जब पिन रिबन से प्रहार करते हैं, तो डॉट्स का एक समूह एक मैट्रिक के रूप में कागज पर पड़ता है,

जिससे अक्षर या चित्र छप जाते हैं। इस प्रकार के प्रिंटर को पिन प्रिंटर भी कहते हैं। डॉट मैट्रिक प्रिंटर एक बार में एक ही कैरेक्टर प्रिंट करता है। ये काफी धीमी गति से प्रिंट करते हैं तथा ज्यादा आवाज करते है, जिससे इन्हे कंप्यूटर के साथ बहुत कम प्रयोग किया जाता है।

2. डेजी व्हील प्रिंटर ( Daisy Wheel Printer)


डेजी व्हील प्रिंटर में कैरेक्टर की छपाई टाइपराइटर की तरह ही होती है। यह डॉट मैट्रिक प्रिंटर की अपेक्षा अधिक रिजोलेशन की प्रिंटिंग करता है तथा इसका आउटपुट, डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर की अपेक्षा अधिक विश्वशनीय (Reliable) होता है।

3. लाइन प्रिंटर (Line Printer)


इस प्रकार के प्रिंटर के द्वारा एक बार में पूरी एक लाइन प्रिंट होती है इसलिए इसे लाइन प्रिंटर कहते हैं। इसकी प्रिंटिंग की क्वालिटी ज्यादा अच्छी नहीं होता है।


4. ड्रम प्रिंटर (Drum Printer)


ये एक प्रकार के लाइन प्रिंटर होते है, जिसमें एक बेलनाकार ड्रम (Cylindrical Drum) लगातार घूमता है। इस ड्रम में अक्षर उभरे हुए होते हैं। ड्रम और कागज के बीच में एक स्याही से लगा हुआ रिबन होता है। जिस स्थान पर अक्षर छापना होता है, उस स्थान। पर हैमर कागज के साथ साथ रिबन पर प्रहार करता है। रिबन पर प्रहार होने से रिबन ड्रम में लगे अक्षर पर दबाव डालता है, जिससे अक्षर कागज पर छप जाता है।

2. नॉन इंपैक्ट प्रिंटर (Non Impact Printer)


ये प्रिंटर कागज पर प्रहार नहीं करते है बल्कि अक्षर या चित्र प्रिंट करने के लिए स्याही का फुहार कागज पर छोड़ते हैं। नॉन इंपैक्ट  प्रिंटिंग में इलेक्ट्रो स्टैटिक केमिकल (Electrostatic Cemical) और इंकजेट तकनीक (Inkjet Printer) का प्रयोग किया जाता है।

इसके द्वारा उच्च क्विवालिटी के ग्राफिक्स और अच्छी किस्म के अक्षरों को छापा जाता है। ये प्रिंटर इंपैक्ट प्रिंटर की अपेक्षा ज्यादा अच्छी होती है।
नॉन इंपैक्ट प्रिंटर निम्न प्रकार के होते हैं

1. इंकजेट प्रिंटर (Inkjet Printer)


इस प्रकार के प्रिंटर में कागज पर स्याही कि फुहारा द्वारा छोटे छोटे बिंदु डालकर छपाई की जाती है। इनकी छपाई की गुणवत्ता भी अच्छी होती है। ये विभिन्न प्रकार के रंगों द्वारा अक्षर और चित्र छाप सकते हैं। इन प्रिंटरों में छपाई के लिए A4 साइज के पेपर का प्रयोग किया जाता है। इंकजेट प्रिंटर रिब्बन के स्थान पर गीली स्याही से भरा हुआ कार्ट्रिज (Cartridge) लगाया जाता है।


यह कार्टेज एक जोड़े के रूप में होता है। एक कार्टेज में काली तथा दूसरे में मेजेंटा, पीली, और सियान रंग (Green Blush) की स्याही भारी जाती है। कॉर्ट्रिज ही इस प्रिंटर का हेड होता है, जो कागज पर स्याही कि फुहार छोड़कर छपाई करता है। इंकजेट प्रिंटर को प्रायः समांतर पोर्ट (Parallel Port) के माध्यम से कम्प्यूटर के साथ जोड़ा जाता है।

आज कल यूएसबी पोर्ट वाले इंकजेट प्रिंटर का प्रयोग किए जाते हैं। इसमें रोजाना एक या दो पेज प्रिंट करनी चाइए जिससे इसका कार्ट्रिज गीला रहता है और बेकार नहीं होता है।

2. थर्मल प्रिंटर (Thermal Printer)


यह पेपर पर अक्षर छापने के लिए ऊष्मा का प्रयोग करता है। ऊष्मा के द्वारा स्याही को पिघला कर कागज पर छोड़ते हैं, जिससे अक्षर या चित्र प्रिंट होते है। यह अन्य प्रिंटर की अपेक्षा धीमी और महंगा होता है तथा इसमें प्रयोग करने के लिए एक विशेष प्रकार के पेपर की जरूरत होती है को केमिकल ट्रीतिड पेपर होता है।

3. लेजर प्रिंटर (Laser Printer)


इस प्रिंटर के उच्च गुणवत्ता के अक्षर को छाप सकते हैं। इसकी छपाई की विधि फोटोकॉपी मशीन से मिलती जुलती है। इसमें कम्प्यूटर से भेजा गया डेटा लेजर किरणों की सहायता से इसके ड्रम पर चार्ज उत्पन्न कर देती है। इसमें एक टोनर होता है जो चार्ज के कारण ड्रम पर चिपक जाता है।

 जब यह ड्रम घूमता है और इसके नीचे से कागज निकलता है। ये प्रिंटर अपनी क्षमता के अनुसार 1 इंच में 300 से 1200 बिंदुओं की सघन्नता द्वारा छपाई कर सकते हैं। ये एक मिनट में 5 से 24 पेज छाप सकते हैं।

4. इलेक्ट्रोमैनेटिक प्रिंटर (Electromagnetic Printer)


इलेक्ट्रोमैग्नेटिक प्रिंटर या इलेक्ट्रो प्रिंटर बहुत तेज गति से छपाई करते हैं। ये श्रेणी में आते हैं। ये प्रिंटर किसी डॉक्यूमेंट में एक मिनट के अंदर 20000 लाइन प्रिंट कर सकता है अर्थात 250 पेज प्रति मिनट की दर से छपाई कर सकता हैं।

इलेक्ट्रो स्टैटिक प्रिंटर (Electrostatic Printer)
इस प्रिंटर का प्रयोग सामान्यतः बड़े फॉर्मेट की प्रिंटिंग ; जैसे - प्रिंटिंग प्रैस के लिए किया जाता है क्योंकि इनकी गति काफी तेज होती है तथा प्रिंट करने में खर्च कम आता है।

Post a Comment

0 Comments