जाने माइक्रोप्रोसेसर क्या है और विभिन्न माइक्रोप्रोसेसर के बारे में

इस पोस्ट में आप जानेंगे की माइक्रोप्रोससर क्या है और विभिन्न माइक्रोप्रोसेसर के बारे में हमने इस पोस्ट में बड़े ही सरल भाषा में बताया है। आपको जरूर पसंद आएगा।


 What is Microprocessor? (माइक्रोप्रसेसर क्या है?)

माइक्रोप्रोससर को सीपीयू (CPU) भी कहा जाता है, जिसका कार्य प्रत्येक गणितीय/लॉजिकल (Arithmetic/Logical) ऑपरेशन को पूरा करना, प्रोग्राम क्रियान्वित करते समय अस्थाई रूप से डेटा संग्रह करना तथा माइक्रोप्रोससर के सभी भागों में टाइमिंग व कंट्रोल सिग्नलों का आदान प्रदान करना होता है। 


माइक्रोप्रोसेसर एक सेमीकंडक्टर इंटीग्रेटेड सर्किट पर बनाए गए प्रोग्राम पर कार्य करने योग्य (Programmable) डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, जो किसी सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट के सभी कार्य करती है। वास्तव में यह प्रोसेसर ही होता है किन्तु माइक्रो कम्प्यूटरों में प्रयुक्त होने के कारण माइक्रोप्रोसेसर कहलाता है। यह कंप्यूटर का हृदय एवं मस्तिष्क होता है।


माइक्रोप्रोसेसर की तकनीकी का विकास होने से पहले इलेक्ट्रॉनिक सीपीयू (CPU) कई अलग अलग भारी - भरकम स्विचिंग उपकरणों से बनता था, जिस कारण कम्प्यूटर बहुत बड़े आकार वाले होते थे, वर्ष 1970 के बाद माइक्रोप्रोसेसर के विकास के बाद छोटे आकार वाले कम्प्यूटरों का बनाया जाना संभव हुआ।


आइए अब अनेक माइक्रोप्रोसेसर के बारे में बारी बारी से जानते है

विभिन्न माइक्रोप्रोसेसरों का परिचय (Introduction of Various Microprocessors)

माइक्रोप्रसेसरों का उपयोग साधारण कैलकुलेटर से प्रारंभ हुआ था, जो नई तकनीकी खोजो के साथ ही अपनी शक्ति इस प्रकार बढ़ते गए की आज बड़े मेनफ्रेम कम्प्यूटरों से लेकर लघुत्तम हाथ में पकड़े जाने वाले कम्प्यूटरों तक सभी मुख्यतः माइक्रोप्रोसेसर का प्रयोग करते हैं।


इंटेल 4004 माइक्रोप्रोसेसर (Intel 4004 Microprocessor)

पर्सनल कम्प्यूटर के लिए माइक्रोप्रोसेसर का उपयोग वास्तव में इंटेल के 4004 माइक्रोप्रोसेसर से प्रारंभ हुआ, जो इंटेल कार्पोरेशन द्वारा 15 नवम्बर, 1971 को जारी किया गया था।

 यह एक बिट का माइक्रोप्रोसेसर था, जिसकी क्लॉक स्पीड 740 किलोहर्टज (KHz) थी। यह एक सेकेंड में लगभग 60000 निर्देशो का पालन करने में समर्थ था। इसका पूरा सर्किट लगभग 2250 इसका उपयोग सबसे पहले इलेक्ट्रॉनिक कैलकुलेटर में किया गया था। कम्प्यूटर में इसका प्रयोग केवल प्रयोगशाला तक ही सीमित रहा।


इंटेल 8008 माइक्रोप्रोसेसर (Intel 8008 Microprocessor)

यह अप्रैल, 1972 में इंटेक्स द्वारा जारी किया गया पहला 8 बिट माइक्रोप्रोसेसर थी। इसकी क्लॉक स्पीड 500 किलोहर्ट्ज (KHz) थी। यह एक सेकंड में 45000 से 100000 तक निर्देशो का पालन करने में समर्थ था। इसकी मैमोरी 16 किलोबाइट थी। इस कारण यह इंटेल 4004। माइक्रोप्रोसेसर की तुलना में लगभग 3 से 4 गुना अधिक तेज था।


 यह माइक्रोप्रोसेसर कंट्रोलर्स (Controllers) और सीआरटी टर्मिनल्स (CRT Terminals) के लिए उपयुक्त था , परंतु कम्प्यूटरों के लिए पर्याप्त नहीं था, इसलिए इसका उपयोग मख्यतः कैलकुलेटर और टर्मिनल्स में किया गया। हालांकि प्रारम्भ के कुछ कम्प्यूटर इस पर आधारित थे, लेकिन अधिकांश, इसके विकसित हुवे रूप इंटेल 8080 का ही उपयोग किया जाता था।


इंटेल 8080 माइक्रोप्रोसेसर (Intel 8080 Microprocessor)

यह अप्रैल, 1974 में इंटेल कार्पोरेशन द्वारा जारी किया गया था। यह आगामी (Next) 8 बिट माइक्रोप्रोसेसर था। यह इंटेल 8008 का विकसित रूप था। इसमें लगभग 4000 ट्रांजिस्टरों का उपयोग किया गया था। इसकी प्रोसेसिंग गति लगभग 2 मेगाहर्ट्ज (MGz) थी। यह एक सेकंड में 50000 तक निर्देशो का पालन करने में समर्थ था। इसकी मैमोरी 64 किलोबाइट थी।


 इसे पहला उपयोग करने योग्य माइक्रोप्रोसेर माना जाता है। इसका उपयोग altair नामक पर्सनल कम्प्यूटर में किया गया था। यह असेम्बली भाषा के निर्देश पर कार्य करता था। इसके लिए CP/M नामक ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया गया था, जो बहुत लोकप्रिय था। प्रोग्रामिंग भाषा बेसिक (BASIC-Beginner's All-Purpose Symbolic Instruction code) का विकास भी इसी कम्प्यूटर के लिए किया गया था।


इंटेल 8086 माइक्रोप्रोसेसर (Intel 8086 Microprocessor)

यह एक 16 बिट माइक्रोप्रोसेसर था, जो वर्ष 1978 में जारी किया गया था। इसकी प्रोसेसिंग गति 5 मेगाहर्ट्ज से 10 मेगाहर्ट्ज तक थी। इसमें 29000 ट्रांजिस्टरों का उपयोग किया था। 

हालांकि इसकी रैम (RAM) भी 64 किलोबाइट थी, परन्तु इसमें 1 मेगाबाइट तक मैमोरी का उपयोग किया जा सकता था। बाद में इसी के आधार पर अन्य कई प्रोसेसोरो का निर्माण किया गया ।


वर्तमान में माइक्रोप्रोसेसर में माइक्रोप्रोससर ने विकास की अनेक पीढ़ियां तय की है। इंटेल कार्पोरेशन कंपनी ने इस क्षेत्र में अपना लगभग एकाधिकार स्थापित कर लिया है। 16 बिट के 80186 और 80286 माइक्रोप्रोसेसर जारी किया, जो अधिकांश नए पर्सनल कम्प्यूटर में उपयोग किया जाने लगा।


 इसमें यह थी कि यह पुराने प्रोफेसरों से अनुकूल (Compatible) थी, जिसके कारण पुराने सभी सॉफ्टवेर इस पर सफलतापूर्वक चल सकते थे। इसके बाद 32 बिट के 80486 प्रोसेसर भी बाजार में आए, जो अपनी तेज गति के कारण सफल रहें, इन्हे चौथी पीढ़ी के माइक्रोप्रोसेसर कहा जाता है।


पेंटियम (Pentium)

इंटेल कंपनी ने मार्च 1993 में pentium नामक प्रोसेसर जारी किया, जो पांचवीं पीढ़ी के माइक्रोप्रोसेसर कहे जाते हैं।  ये 32 बिट माइक्रोप्रोसेसर होते हैं, जिनकी क्लॉक स्पीड 66 मेगाहर्ट्ज से प्रारम्भ होती है।


इसी श्रेणी में बढ़ती हुई क्लॉक स्पीड के साथ pentium प्रो, pentium 2, Pentium 3 , Penitum 4, Pentium D तथा Penitum डुअल कोर (Penitum Dual Core) नामक प्रोसेसर बाजार में आए, जो आज भी व्यापक रूप से उपयोग में लाए जा रहे हैं। इनकी गति कई गीगाहर्ट्ज (GHz) में है।


इंटेनियम (Intanium)

ये इंटेल कार्पोरेशन द्वारा विकसित किए गए नवीनतम माइक्रोप्रोससर है जो 64 बिट तकनीक पर आधारित है। अभी तक इस श्रेणी में माइक्रोप्रोसेसर लागू किए गए हैं - intanium और intanium 21 इनका प्रयोग मुख्यत सर्वरों में किया जाता है। इस सीरीज के आधार माइक्रोप्रोससर पहली बार वर्ष 2001 में जारी किए गए।

Post a Comment

0 Comments